एससी बनाम डीओटी: संघ और राज्यों के मौलिक कर्तव्यों पर सुप्रीम कोर्ट की राय 

एकीकृत कराधान प्रणाली (यूटीएस) कर के संग्रह को केंद्रीकृत करने के केंद्र सरकार के कदम की वैधता पर दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले को देश के समग्र कराधान परिदृश्य के लिए इसके निहितार्थ के कारण पढ़ने की आवश्यकता है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने 5 जून, 2016 के अपने फैसले में कहा कि कराधान के संबंध में कानून बनाने और लागू करने के लिए राज्य की शक्तियों को प्रदान करने वाले संविधान के प्रावधान संविधान के प्रावधानों के अधीन ही लागू रहेंगे। निर्णय इस मायने में महत्वपूर्ण है कि यह स्पष्ट करता है कि केंद्र सरकार का वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) के समान एक एकीकृत कर लगाने का कदम असंवैधानिक है। उच्च न्यायालय के निर्णय का देश में केंद्र और राज्यों के लिए उन शक्तियों के संदर्भ में भी प्रभाव पड़ता है जो उनके पास कंपनियों और व्यक्तियों पर कर लगाने के लिए हैं। आइए पहले केंद्र और राज्यों के लिए फैसले के निहितार्थों को समझें।
जजमेंट किस पर है?
सुप्रीम कोर्ट ने अपने 5 जून, 2016 के फैसले में कहा है कि कराधान के संबंध में कानून बनाने और लागू करने के लिए राज्य की शक्तियों को प्रदान करने वाले संविधान के प्रावधान संविधान के प्रावधानों के अधीन ही लागू रहेंगे। यह देखा गया है कि निर्णय का परिणाम यह नहीं है कि कर लगाने की राज्य शक्ति संघ को प्रदान की जाती है। सुप्रीम कोर्ट ने इसके बजाय माना है कि विभिन्न करों के संबंध में, संघ के पास लगाने की ऐसी कोई शक्ति नहीं है। इस फैसले के देश के समग्र कराधान परिदृश्य के लिए महत्वपूर्ण निहितार्थ हैं।
एकीकृत कराधान प्रणाली पर दिल्ली उच्च न्यायालय का निर्णय क्या खारिज करता है?
दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले में पाया गया है कि एकीकृत कराधान प्रणाली (यूटीएस) कर के संग्रह को केंद्रीकृत करने का केंद्र सरकार का कदम असंवैधानिक है। इसने माना है कि यूटीएस कर के संग्रह का केंद्रीकरण गरीब विरोधी और लोकतंत्र विरोधी है। यह केंद्र सरकार के इस कदम की वैधता की सुप्रीम कोर्ट की समीक्षा का आधार हो सकता है। इसके अलावा, उच्च न्यायालय ने राज्यों की इस दलील को खारिज कर दिया है कि उन्हें केंद्र की तरह ही कर लगाने का अधिकार है। सुप्रीम कोर्ट ने देखा है कि राज्य 2006-07 के राज्य के बजट के बाद केंद्र के समान कर की छाया ही लागू करने में सक्षम थे। यह निर्णय इस मायने में महत्वपूर्ण है कि यह स्पष्ट करता है कि केंद्र सरकार का वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के समान कंपनियों पर एकीकृत कर लगाने का कदम असंवैधानिक है। कंपनियों और व्यक्तियों पर कर लगाने की शक्तियों के संदर्भ में इसका देश में केंद्र और राज्यों पर भी प्रभाव पड़ता है।
एकीकृत कराधान प्रणाली कर के संग्रह के संघ के केंद्रीकरण पर दिल्ली उच्च न्यायालय का निर्णय
दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा है कि केंद्र सरकार का वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के समान कंपनियों पर एकीकृत कर लगाने का कदम गरीब विरोधी और लोकतंत्र विरोधी है। यह भी देखा गया है कि राष्ट्रव्यापी पैमाने पर करों के संग्रह को केंद्रीकृत करने का संघ का प्रयास “गलत कल्पना” और “मौलिक रूप से त्रुटिपूर्ण” है। उच्च न्यायालय ने देखा है कि इस योजना से कंपनियों के लिए अधिक कर और सरकार के लिए कम संग्रह होगा। यह भी देखा गया है कि एक समान कॉर्पोरेट आयकर लागू करना, जो देश में काम कर रही सभी कंपनियों पर लागू होता है, जाने का एक बेहतर तरीका है।
करों पर राज्यों के अपने अधिकार के प्रयोग पर दिल्ली उच्च न्यायालय का निर्णय
सुप्रीम कोर्ट ने अपने 5 जून, 2016 के फैसले में कहा है कि संविधान के प्रावधान जो राज्यों को कराधान के संबंध में कानून बनाने और लागू करने की शक्ति प्रदान करते हैं, “यह सुनिश्चित करने के सर्वोपरि हित के अधीन हैं कि करों को मनमाने ढंग से नहीं लगाया जाता है या एकत्र नहीं किया जाता है। मनमाने ढंग से”। सुप्रीम कोर्ट ने देखा है कि हालांकि राज्यों के पास “संपत्ति कर, विरासत कर और विरासत आयकर की राशि और प्रकार को विनियमित करने की शक्ति है,” “कर लगाने की शक्ति विशेष रूप से संघ में निहित है”।
उच्च न्यायालय ने यह भी देखा है कि “यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि चूंकि राज्यों के पास कर लगाने की ऐसी कोई शक्ति नहीं है, इसलिए उस शक्ति का उनका प्रयोग विशुद्ध रूप से स्वैच्छिक है और एक राज्य का निर्णय दूसरे राज्यों को प्रभावित नहीं करता है।”

दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले के समापन शब्द
“राज्य के पास संपत्ति कर, विरासत कर और विरासत आयकर की राशि और प्रकार को विनियमित करने की शक्ति है, लेकिन कर लगाने की शक्ति विशेष रूप से संघ में निहित है। यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि चूंकि राज्यों के पास कर लगाने की ऐसी कोई शक्ति नहीं है, इसलिए उस शक्ति का उनका प्रयोग विशुद्ध रूप से स्वैच्छिक है और एक राज्य का निर्णय दूसरे राज्यों को प्रभावित नहीं करता है, ”उच्च न्यायालय ने देखा है। “संविधान के निर्माताओं का अंतर्निहित इरादा संघ को सशक्त बनाना था न कि राज्यों को पूरे देश में एक समान राष्ट्रीय कर बनाने के लिए। राज्यों को कर लगाने के संबंध में कोई अंतर्निहित या विशेष दर्जा प्राप्त नहीं है और उनके पास संविधान द्वारा प्रदान किए गए करों से परे कर लगाने की कोई शक्ति नहीं है। ”
भारत में करों के लिए भविष्य में क्या होना चाहिए?
यह केंद्र सरकार के इस कदम की वैधता की सुप्रीम कोर्ट की समीक्षा का आधार हो सकता है। इसके अलावा, उच्च न्यायालय ने राज्यों की इस दलील को खारिज कर दिया है कि उन्हें केंद्र की तरह ही कर लगाने का अधिकार है। सुप्रीम कोर्ट ने देखा है कि राज्य 2006-07 के राज्य के बजट के बाद केंद्र के समान कर की छाया ही लागू करने में सक्षम थे। यह निर्णय इस मायने में महत्वपूर्ण है कि यह स्पष्ट करता है कि केंद्र सरकार का वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के समान कंपनियों पर एकीकृत कर लगाने का कदम असंवैधानिक है। कंपनियों और व्यक्तियों पर कर लगाने की शक्तियों के संदर्भ में इसका देश में केंद्र और राज्यों पर भी प्रभाव पड़ता है।
निष्कर्ष
एकीकृत कराधान प्रणाली (यूटीएस) कर के संग्रह को केंद्रीकृत करने के केंद्र सरकार के कदम पर दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले को देश के समग्र कराधान परिदृश्य के लिए इसके निहितार्थों के कारण पढ़ने की आवश्यकता है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने 5 जून, 2016 के अपने फैसले में कहा कि कराधान के संबंध में कानून बनाने और लागू करने के लिए राज्य की शक्तियों को प्रदान करने वाले संविधान के प्रावधान संविधान के प्रावधानों के अधीन ही लागू रहेंगे। निर्णय इस मायने में महत्वपूर्ण है कि यह स्पष्ट करता है कि केंद्र सरकार का वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) के समान एक एकीकृत कर लगाने का कदम असंवैधानिक है। उच्च न्यायालय के निर्णय का देश में केंद्र और राज्यों के लिए उन शक्तियों के संदर्भ में भी प्रभाव पड़ता है जो उनके पास कंपनियों और व्यक्तियों पर कर लगाने के लिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *